क्यों खो जाना चाहते हो..

क्यों खो जाना चाहते हो.....
नही आज सच बता ही दो कि इस दुनिया की भीड़ में ही तुम क्यों खो जाना चाहते हो,
वादे,इरादे,रिश्ते,नाते बस इन्हीं के होकर क्यों रह जाना चाहते हो,
नही सच में आज बता ही दो क्यों खो जाना चाहते हो....
हँसी, खुशी, उत्सव, उपहार के जीवन का एक हिस्सा है,
ईर्ष्या, द्वेष, क्लेश,पाप इनका भी जीवन में किस्सा है,
फिर क्यों सिर्फ कुछ लम्हों में सिमट कर रह जाना चाहते हो,
नही सच में आज बता ही दो क्यों खो जाना चाहते हो....
वो हर सुबह की पहली किरण जब चेहरे पर पड़ती है,
पलकें अंगड़ाइयां लेकर कई नए सपनों के साथ उठती है,
क्यों उन सपनों को यूंही जाया हो जाने देना चाहते हो,
नही सच में आज बता ही दो क्यों खो जाना चाहते हो....
उस साज-ए-शहर में कुछ सोचकर प्यारी सी मुस्कान जब लबों पर आती है,
पता है मुझे उस पल वो विश्वास की कली खुशी से झूम कर खिल जाती है,
क्यों उस कली को मुरझा जाने देना चाहते हो,
नही सच में आज बता ही दो क्यों खो जाना चाहते हो...
चलो मान लिया हाँ चलो मान लिया कि-
इस मन सारी ख्वाहिशें नही पूरी होती हैं,
शायद कभी हारने से पहले जीत से कुछ ही दूरी होती है,
पर क्यों उन हार में खुद को डूबो देना चाहते हो,
नही सच में आज बता ही दो क्यों खो जाना चाहते हो...
पूछा है कभी हाँ पूछा है कभी खुद से-
कि खुश हो तुम या कोई गम तो नही है,यकीन है मुझे नही पूछा होगा,
दुनिया वाले खुश रहे बस हमेशा यही सोचा होगा,
फिर क्यों आज ख़ुद से ही नजरें चुराना चाहते हो,
नही सच में आज बता ही दो क्यों खो जाना चाहते हो...
चलो माना हाँ चलो माना-
 सवालों की लहर की गूंज सी रहती है कभी-कभी जीवन में,
बात आ जाये जब अपनों की तो एक उलझन सी मचती है तन में,
पर क्यों इस उलझन की खाई में तुम कूद जाना चाहते हो,
नही सच में आज बता ही दो क्यों खो जाना चाहते हो...
हर सुबह,दोपहर,शाम,रात-
 ये जानते हुए भी की गुजरे पल वापस नही आते,
नही हो सकती फिर से उन पलों से गुजरी मुलाकातें,
फिर क्यों उन यादों का सहारा लेकर सो जाना चाहते हो,
नही सच में आज बता ही दो क्यों खो जाना चाहते हो,
एक बात हाँ बस एक बात और-
पाबंदी,दायरे,रूकावट और फिर सन्नाटा क्या इनसे आगे कुछ नही है,
अज़्म, अज़ामत, इश्तियाक, वस्ल क्या इनका कोई सुख नही है,
फिर  प्रतिभाओं का जो तूफान लिए हो उन्हें क्यों नही बिखेरना चाहते हो,
नही आज सच बता ही दो कि इस दुनिया की भीड़ में ही तुम क्यों खो जाना चाहते हो..........!!!!!!!
                                   
  -Aradhna Shukla
Post a Comment

Popular posts from this blog

Himanshu sachan

एक दूसरे का सम्मान करो....!!!