Featured Post

बस ये है मेरी ज़िंदगी

बस ये है मेरी ज़िंदगी उत्साह नया था और फिर कलम चली थी, जज़्बात का पहला खत कुछ यूँ लिखा था मैंने.. और फिर जब खुद से जी लिए तो खुद्दार हो गए...